Movie prime
क्या आपके बच्चे को कम उम्र में हो गया है प्यार तो इन गलतियों को करने की ना करे भूल
 

भारतीय परिवेश के लिए इस बात को डाइजेस्ट करना काफी मुश्किल होता है कि उनके बच्चे का किसी के साथ अफेयर चल रहा है खास तौर पर अगर बच्चा छोटा है तो यह पेरेंट्स के लिए काफी बड़ी बात होती है बच्चों  की इस हरकत के बारे में पता चलने  पर अधिकतर पेरेंट्स को काफी गुस्सा आता है  और परिस्थति को सुधारने की बजाय  और बिगाड़ देते है   कोई लोग बच्चों को कठोर सजा देते देते हैं तो कुछ उनकी बाहर जाना  और फोन के  इस्तेमाल करने पर बैन लगा देते हैं इन सभी पाबंदियों के चलते कई बार बच्चे काफी डर भी जाते हैं पेरेंट्स अपने मन की बात शेयर करने में कतराते है   ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि टीनएज लव रिलेशनशिप को कैसे डील करे। 

teen

कई मामले सामने आते हैं जहां बच्चों को रोकने पर वह अपने माता पिता की हत्या तक कर देते हैं ऐसे में सवाल उठता है कि अगर बच्चे किसी रोमांटिक रिलेशनशिप में है तो माता-पिता को इस परिस्थिति का सामना किस तरह से करना चाहिए  इन सभी मामलों में कई बार बच्चों को माता-पिता को सपोर्ट के काफी जरूरत होती है लेकिन उनके गुस्से और पाबंदी की  वजह से   कहीं ना कहींबच्चे  से दूरी बना लेते हैं बच्चों की रिलेशनशिप के बारे में जानने के बाद आज हम आपको बताते हैं कि आप कैसे इस परिस्थिति से समझ सकते हैंजब भी माता-पिता को बच्चे की रिलेशनशिप के बारे में पता चले तो उनके   लिए बच्चे के रिलेशनशिप को मंजूरी देना काफी मुश्किल होता है ऐसे में  इनकार करने की बजाय आप ये चीजे कर सकते है। 

teen

अपने बच्चे को रिलेशनशिप को लेकर परेशान है तो इसके लिए किसी से बात करें सबसे पहले अपने  दिमाग को शांत करें ताकि आप चीजों को लेकर शांति से सोच  सकें रिलेशनशिप के बारे में पता लगने के बाद जरूरी है कि आप बच्चे पर सीधा गुस्सा करने की बजाय अपने पार्टनर से बात करें माता पिता होने के नाते आप की बच्चे  के शरीर में प्यूबर्टी के दौरान होने वाले बदलावों को काफी समझना जरूरी है आमतौर पर लोग के दौरान बच्चे के शरीर में होने वाले बदलाव के बारे में तो सब जानते हैं लेकिन इमोशनल बदलाव से अनजान रहते है  ऐसे में जरूरी है कि आप बच्चे की फीलिंग्स और इमोशंस को को समझे। 

teen

इस दौरान बच्चे के दिमाग और मन में भी कई तरह के बदलाव होते हैं इस स्टेज में बच्चे कई बार काफी ज्यादा इमोशनल महसूस करते हैं किशोरावस्था ऐसी स्टेज होती है जब बच्चे माता-पिता से अलग होकर अपनी आजादी को महसूस करना चाहते हैं इस दौरान बच्चे अपने नए दोस्त बनाते हैं और नई नई चीजों का अनुभव करना चाहते हैं इस स्टेज में जरूरी है कि आप उन्हें माता-पिता बनकर नहीं बल्कि एक दोस्त की तरह ट्रीट करें। 

teen

प्यूबर्टी के दौरान बच्चों को में कई तरह के हार्मोनल  बदलाव का सामना करना पड़ता है ऐसे में अगर आपका बच्चा खुद अलग तरह से रियेक्ट करता है या गुस्सा करता है तो इसे दिल पर ना लें कई बच्चे चीजों पर ध्यान दें लेकिन उनकी प्राइवेसी का ध्यान रखें जबरदस्ती किसी चीज के बारे में जानने के लिए उनका पीछे  ना पड़े अक्सर माता-पिता को  ऐसे  बात करना काफी अजीब लगता है लेकिन जरूरी है कि आप अपने कंफटंत जोन से बाहर निकले और बच्चे से इस  टॉपिक्स पर खुलकर बात करें।